बेटी पैदा हुई तो पति ने पत्नी से मुंह मोड़ा 5 साल से नहीं ली सुधि

अब वृद्ध पिता के साथ दर दर भटक रही पीडिता, जिलाधिकारी से लगाई न्याय की गुहार

 

बेटी पैदा हुई तो पति ने पत्नी से मुंह मोड़ा 5 साल से नहीं ली सुधि

अब वृद्ध पिता के साथ दर दर भटक रही पीडिता, जिलाधिकारी से लगाई न्याय की गुहार

बहराइच। जिले के कोतवाली देहात क्षेत्र निवासी एक युवक ने लगातार दो बेटी पैदा होने से नाराज होकर पत्नी से नाता तोड़ लिया इतना ही नहीं कोरोना महामारी के दौरान जब पत्नी मायके में थी तभी युवक में दूसरा विवाह भी कर लिया अब पीड़िता अपने वृद्ध पिता के साथ बहराइच न्याय की तलाश में आई है यहां से न्याय की उम्मीद न होने पर जिलाधिकारी से अपनी व्यथा सुनाई है ।
पीड़िता रूपाली श्रीवास्तव ने बताया कि उनका विवाह 16 अप्रैल सन 2013 को बहराइच के निवासी आलोक कुमार श्रीवास्तव से हुई थी। इस संबंध में लड़की के पिता ने बताया कि उनको पहली बेटी एक बड़े ऑपरेशन से हुई जिसके बाद डॉक्टरों द्वारा उन्हें 5 साल तक बच्चे को जन्म न देने की हिदायत दी गई थी। लेकिन अगले साल ही रुपाली फिर से गर्भवती हो गई जिसके बाद उन्हें उनके पति द्वारा अस्पताल में भर्ती कराया गया। तब उनकी पत्नी को फिर से बेटी हुई लड़की के पति के मुताबिक बेटी पैदा होते ही पति द्वारा उन पर आरोप लगाना शुरू कर दिया गया और उसी हालत में अस्पताल में उसको छोड़कर चला गया। हालत में थोड़ा सुधार होने पर रूपाली अस्पताल से अपने मायके चली गई । रूपाली का आरोप है कि पति द्वारा कहा गया कि जब तक इनका इलाज नहीं हो जाता तब तक इनको अपने साथ नहीं रख सकते हैं। यह मामला न्ययालय तक पहुंचा गया। लगातार दो साल से कोरोना वायरस के कारण मामला फीका पड़ गया। कोरोना महामारी के दौरान पति ने दूसरी शादी कर ली। रूपाली के पिता राकेश श्रीवास्तव ने बताया कि 10 महीना पहले उनके पति ने दूसरी शादी कर ली है। वह रिटायर सरकारी कर्मचारी है उनका कहना है कि लगातार मिर्जापुर से बहराइच आने में असमर्थ हैं। उन्होंने जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर जिलाधिकारी दिनेश चंद्र से न्याय की गुहार लगाई है। अब देखना यह होगा कि इस मामले में प्रशासन किस तरह की कार्रवाई करता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.